इस मंदिर में मुंह से गर्दन काटकर होती है कबूतरों की बलि

0
529


असम की राजधानी गुवाहाटी की कामाख्या पीठ में देवधानी उत्सव चल रहा है. इसमें देवदास यानि पुजारी अपने पारंपरिक डांस से देवी को खुश करते हैं. ये उत्सव तीन दिनों तक चलता है. हर दिन के साथ डांस की गति तेज होती जाती है. देशभर से लाखों लोग इकट्ठा होते हैं. लेकिन इस उत्सव में कबूतरों की जिस तरह से बलि दी जाती है, वो विचलित कर देने वाली बात भी होती है. डांस करते हुए देवदास अपने मुंह से काटकर जिंदा कबूतरों की बली देते हैं. ये दृश्य वाकई विचलित करने वाला होता है लेकिन ये परंपरा इस प्राचीन मंदिर में सैकड़ों सालों से चल रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here