कुछ ऐसे थे रॉयल के शौक-

0
1136


कुछ ऐसे थे रॉयल के शौक…
इंडियन रॉयल्स अपनी शानौ-शौकत के अलावा अपने अलग शौक के लिए भी फेमस थे। वह अपने अजीबोगरीब शौक के लिए करोड़ों रुपए खर्च करने मे भी पीछे नहीं रहते थे।रॉयल्स अपने कुत्तों की शादी पर 20 लाख रुपए तक खर्च कर देते थे। इनमे से एक ने 14,000 चांदी के सिक्कों को गलाकर बड़े लोटे बनवाए, जिसमें गंगाजल लेकर आया गया

डायमंड की बनी सैंडल पहनती थी ये महारानी,

पश्चिम बंगाल में कुछ बेहर की महारानी इंदिरा देवी ने डायमंड लगे सैंडल्स के 100 जोड़े ऑर्डर किए। ये सैंडल्स 20वीं शताब्दी के सबसे महंगे डिजाइनर सेलवेटोरफरमैंगो से बनवाए गए थे। इन सैंडल्स पर मोती, डायमंड, ब्लैक वेल्वेट लगे थे। इन सैंडल्स पर लाखों रुपए खर्च किए गए थे।

जूनागढ़ के नवाब सर महाबेट खान रसूल खान,

महाराज के पास 800 कुत्ते थे। इन 800 कुत्तों के लिए अलग-अलग 800 कमरे और पर्सनल सर्वेंट थे। जब कुत्ते बीमार पड़ते थे, तो उन्हें ब्रिटिश जानवरों के अस्पताल ले जाया जाता था। अगर कोई कुत्ता मर जाता था, तो उसके लिए एक दिन का शोक रखा जाता था। जब उन्होंने अपने कुत्तों की शादी की उस पर 20 लाख रुपए खर्च किए।

महाराज सवाई माधो सिंह-

सवाई माधो सिंह का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है। उनके पास चांदी के दो बहुत बड़े लोटे हैं। ये वर्ल्ड के सबसे बड़े लोटे हैं। ये लोटे गंगाजल भरने के लिए तब बनाए गए थे, जब वह भारत से इंग्लैंड जा रहे थे। ये बड़े लोटे चांदी के 14,000 सिल्वर के कॉइन्स को पिघलाकर बनाए गए थे।

मीर उस्मान अली खान-

हैदराबाद के निजाम हैदराबाद के निजाम मीर उस्मान अली खान इतने अमीर थे कि उनके पास दुनिया का पांचवा सबसे बड़ा डायमंड था। वह इसे पेपरवेट की तरह इस्तेमाल करते थे। ये डायमंड 184.97 कैरेट का था। इस डायमंड का साइज ऑस्ट्रिच के अंडे जितना था। हैदराबाद के निजाम के कोष करीब 2 अरब डॉलर का था। अब डायमंड की कीमत करीब 50 करोड़ रुपए है। ये अभी भारत सरकार के पास है।

महाराजा जगजीत सिंह-

महाराजा जगजीत सिंह लुइस विटॉन के सबसे बेस्ट कस्टमर थे। वह सबसे ज्यादा ट्रैवल करते थे। उनके पास लुईस विटॉन के 60 बड़े ट्रंक थे। वह इसमें अपने कपड़े, पगड़ी, तलवारें लेकर जाते थे।

महारानी सीता देवी-

बड़ोदा की महारानी सीता देवी अपने फिजूलखर्च के लिए फेसस थी। उनके पास गोल्ड का टंग क्लीनर था, जो उन्होनें यूरोप से बनवाया था। उनके पास एक हजार से अधिक साड़ियां थीं।इन सबके साथ के मैचिंग बैग और सैंडल थे। उनके पास एक सिगरेट होल्डर था, जिसमें रूबी लगी हुई थी।

कृष्णा राज वाडेयार IV-

मैसूर के महाराज मैसूर के महाराज कृष्णा राज वाडेयार IV ने अपने सर्वेंट को धुप से बचाने के लिए ऑर्डर देकर कस्टमाइज रॉल्स रॉयल बनवाई थी।ऑर्डर पर बनी ये रॉल्स रॉयल साल 1911 में बनी थी। इस कार साल 2011 में डंप किया गया और इसके बाद भी इससे 3.20 करोड़ रुपए मिले हैं।जब साल 1940 कृष्णा राज वाडेयार IV का निधन हुआ था, तब वह वर्ल्ड के सबसे अमीर आदमी थे।उनकी संपत्ति करीब 35 बिलियन पाउंड थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here